in

स्मॉग के कारण और बचाव, ऐसे रहे फिट एंड हेल्दी

पिछले कुछ दिनों से दिल्लीस्मॉग की चपेट में है। दिल्ली-एनसीआर ही नहीं कई शहर की एयर क्वालिटी इंडेक्स बेहद खराब है। जहरीली स्मॉग की वजह से सांस लेने में तकलीफ और सड़कों पर कम होती रोशनी से लोगों की परेशान बढ़ रही है। इस स्मॉग और वायु प्रदूषण के कारण आंखों में जलन और सांस लेने में भी प्रॉब्लम हो रही है। इसके अलावा बच्चे, बूढ़े और बड़ों को गंभीर बीमारी होने का खतरा है।

स्मॉग से खांसी, जुकाम, सीने में दर्द, फेफड़े और सांस से जुड़ी बीमारी का खतरा है। स्किन संबंधी समस्या, बाल झड़ना, ब्लड प्रेशर से पीड़ित रोगी को ब्रेन स्ट्रोक और अस्थमा के रोगियों को अटैक पड़ने का खतरा रहता है। इससे सांस से संबंधित रोग से ग्रस्त मरीजों को ज्यादा परेशानी झेलनी पड़ती है।

स्मोक और फॉग से मिलकर बना स्मॉग जहरीली गैसों से मिलकर बनता है। स्मॉग गाड़ियों और फैक्टरियों से निकले धुएं में राख, नाइट्रोजन, सल्फर, कार्बन डाईऑक्साइड और अन्य हानिकारक गैसें जब कोहरे के संपर्क में आती हैं तो स्मॉग बनता है।इसके अलावा पराली जाना भी इसके पीछे का कराण है। स्मॉग तेज हवा चलने या बारिश के बाद ही खत्म होता है। स्मॉग किसी की जान लेने में अपनी पूरी भूमिका को निभाता है।

स्मॉग से बचने के उपायः

  • जिन लोगों को फेफड़े और दिल से संबंधित बीमारी है, वह घर से बाहर रहने से बचें, अगर कोई जरूरी काम है, तो जब भी बाहर निकलें।
  • सुबह-सुबह निकलने की बजाय धूप निकलने के बाद घर से बाहर निकलें।
  • अपने खानपान का जरूर ख्याल रखें।
  • पानी को उबालें और उसमें पुदीना डालकर इससे भाप लें।
  • बाहर अच्छे मास्क का प्रयोग करें।
  • इन दिनों दौड़ने या साइकिलिंग के बजाय सिर्फ वॉक करें।
  • कार पूलिंग और पब्लिक ट्रांसपोर्ट का ज्यादा प्रयोग करें। अपने व्हीकल जरूरत पड़ने पर इस्तेमाल करें।
  • इसके अलावा योग स्मॉग से बचाव करने के लिए लाभदायक है।

इसी के चलते पर्यावरण विभाग के कर्मचारियों के अलावा पुलिसकर्मियों से अपने-अपने इलाकों में पराली जलाने वाले किसानों पर नजर रखने के लिए कहा गया है। पुलिस पराली जलाने वालों के खिलाफ सख्ती बरतेगी।

वहीं, दूसरी तरफ दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल इस समस्या से निजात दिलाने के लिए पंजाब के सीएम अमरिंदर से चर्चा करने की कही थी। पराली जलाने के बाद दिल्ली में फैले वायु प्रदूषण को लेकर सियासतभी गरमा गई है।

What do you think?

0 points
Upvote Downvote

Total votes: 0

Upvotes: 0

Upvotes percentage: 0.000000%

Downvotes: 0

Downvotes percentage: 0.000000%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13 साल की उम्र में 12वीं पास?